ऊधौ, कर्मन की गति न्यारी

ऊधौ, कर्मन की गति न्यारी।
सब नदियाँ जल भरि-भरि रहियाँ सागर केहि बिध खारी॥
उज्ज्वल पंख दिये बगुला को कोयल केहि गुन कारी॥
सुन्दर नयन मृगा को दीन्हे बन-बन फिरत उजारी॥
मूरख-मूरख राजे कीन्हे पंडित फिरत भिखारी॥
सूर श्याम मिलने की आसा छिन-छिन बीतत भारी॥


- सूरदास 

Comments

Popular posts from this blog

निसिदिन बरसत नैन हमारे।

मेरो मन अनत कहाँ सुख पावे

अबिगत गति कछु कहति न आवै