अबिगत गति कछु कहति न आवै

अबिगत गति कछु कहति न आवै।
ज्यों गूंगो मीठे फल की रस अन्तर्गत ही भावै॥
परम स्वादु सबहीं जु निरन्तर अमित तोष उपजावै।
मन बानी कों अगम अगोचर सो जाने जो पावै॥
रूप रैख गुन जाति जुगति बिनु निरालंब मन चकृत धावै।
सब बिधि अगम बिचारहिं, तातों सूर सगुन लीला पद गावै॥


- सूरदास

Comments

  1. कृपया इस पद का भावार्थ भी पोस्ट करें .
    धन्यवाद ,

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

निसिदिन बरसत नैन हमारे।