पिया बिन

पिया बिन नागिन काली रात ।
कबहुँ यामिन होत जुन्हैया, डस उलटी ह्वै जात ॥
यंत्र न फुरत मंत्र नहिं लागत, आयु सिरानी जात ।
'सूर' श्याम बिन बिकल बिरहिनी, मुर-मुर लहरें खात ॥


- सूरदास

Comments

Popular posts from this blog

अबिगत गति कछु कहति न आवै

निसिदिन बरसत नैन हमारे।